​ड्राइवर को मिल गए थे खतरे के संकेत, अफसरों ने कैसे भी कानपुर पहुंचने को कहा.…

कानपुर (कुलदीप मिश्रा) : ट्रेन के ड्राइवर जलत शर्मा के मुताबिक रात करीब एक बजे उन्होंने अफसरों को खतरे के संकेत दे दिए थे। झांसी से चलने के बाद दो स्टेशन पार होते ही उन्हें इंजन मीटर पर अधिक लोड दिखाई दिया। उन्होंने तुरंत ही साथी डीपी यादव को इसकी जानकारी दी। इसके बाद झांसी मंडल के रेल अफसरों को जानकारी दी, लेकिन वहां से कहा गया कि ट्रेन को जैसे-तैसे कानपुर तक ले जाओ, फिर देखेंगे। हादसे के वक्त इंदौर-पटना एक्सप्रेस को चला रहे ड्राइवर जलत शर्मा झांसी डिविजन के ड्राइवर हैं। उन्होंने चालक लॉबी में सौंपी अपनी रिपोर्ट में बताया है कि तड़के 3:03 बजे ओएचई केबल (ओवरहेड इलेक्ट्रिक केबल) में तेज धमाके के बाद उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाए।

हादसे की ठीक-ठीक वजह के बारे में तो जांच रिपोर्ट के आने के बाद ही पक्के तौर पर कुछ कहा जा सकता है लेकिन ड्राइवर जलत शर्मा की रिपोर्ट बहुत कुछ कह देती है। रिपोर्ट के मुताबिक 3:03 बजे ओएचई केबल (ओवरहेड इलेक्ट्रिक केबल) में तेज धमाके के बाद उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाए तो उस वक्त ट्रेन की स्पीड 110 किमी प्रति घंटा थी। ओएचई में धमाके से लाइन ट्रिप नहीं होती तो पूरी ट्रेन में आग लग सकती थी। इसके बाद जो कुछ हुआ वो सबके सामने है। ट्रेन हादसे में बच गए यात्रियों के मुताबिक जिस वक्त हादसा हुआ वो गहरी नींद में थे, अचानक तेज धमाका हुआ। झटके से सभी बर्थ के नीचे गिर गए। पता चला ट्रेन पलट गई है। कुछ लोग दबे थे। दरवाजा खोलकर बाहर देखा तो नजारा दिल दहलाने वाला था।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s