​अंधेर गर्दी जिलाधिकारी के आदेश पर छह माह बाद भी नहीं हुआ अमल …

★मामला अकोढ़ी बैरागढ़ में तालाब, खलिहान में अवैध कब्जा 
★अतिक्रमणकारी तालाब की पुराई में लगे 

उरई(जालौन)। एक ओर जहां केंद्र व प्रदेश सरकार जल संचयन के लिये तालाबों के रख रखाव, जीर्णोद्धार ही नहीं बल्कि उन पर अवैध कब्जों को हटाकर तालाबों की खुदाई कराने के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च किये जा रहे हैं। वहीं प्रदेश के तालाबों से अवैध अतिक्रमण हटाने को इलाहाबाद हाईकोर्ट भी सख्त है। न्यायालय ने प्रदेश के सभी तालाबों को अतिक्रमण से मुक्त कराने का फरमान भी जारी कर दिये थे लेकिन इसके बावजूद भी तालाबों की जमीनी हकीकत किसी से छिपी नहीं है। शायदही जिले का ऐसा कोई तालाब हो जिस पर अतिक्रमण की काली छाया विद्यमान नहो। ताज्जुब की बात तो यह है कि तालाब व खलिहानों की जमीन पर अवैध अतिक्रमण हटाने के निर्देश जिलाधिकारी ने छह माह पूर्व दिये थे लेकिन उन पर आज तक अमल नहीं कराया जा सका।

गौरतलब हो कि उरई तहसील के ग्राम अकोढ़ी बैरागढ़ में महत्वपूर्ण पालों का तालाब जिसे दबंगों ने पूरकर तालाब का पूरा स्वरूप ही नष्ट करदिया कुछ लोगों ने उसमें आवासों का निर्माण करा लिये तो कुछ लोग खाली प्लाट बनाकर उस पर अपना मालिकाना हक जताते रहते हैं। ग्रामीणोंने तालाब पर अवैध अतिक्रमण की शिकायत जिलाधिकारी संदीप कौर से की थी। इसके बाद उप जिलाधिकारी उरई ने तालाब की जांच तहसीलदार उरई को सौंपी जिसमें तहसीलदार ने दर्जन भर से अधिक लोगों को अतिक्रमणका दोषी पाया था। एसडीएम ने 29 जून 2016 को पत्रांक 1853एसटी-एसडीएम में थानाध्यक्ष एट, क्षेत्राधिकारी उरई, खंड विकासअधिकारी डकोर व तहसीलदार उरई को आदेश दिया था कि अधिकारीआपस में समन्वय स्थापित कर तालाब व सार्वजनिक खलिहान से अवैध अतिक्रमण सख्ती से हटवा दें। इतना ही नहीं पूर्व में भी ग्रामीणों ने वर्ष2005 में तत्कालीन जिलाधिकारी से तालाब को अवैध अतिक्रमण से मुक्तकराने की शिकायत की थी उस दौरान तत्कालीन एसडीएम सदर ने दर्जनभर लोगों को अतिक्रमण का दोषी पाया था और अपने आदेश18 जनवरी 2005 पत्र संख्या 380 (1) एसटी में थानाध्यक्ष एटको अतिक्रमण हटाने के आदेश दिये थे लेकिन आज तक वह आदेश रद्दी की टोकरी से बाहर नहीं निकल पाया। जिम्मेदार अधिकारियों के आदेश के बावजूद तालाब व खलिहान से अवैध अतिक्रमण न हटने से ग्रामीणों में इस बात को लेकर निराशा देखी जा रही है कि उनकी शिकायत के बाद भी अवैध अतिक्रमण हटाना तो दूर कोई अधिकारी मौके पर देखने तक नहीं पहुंचा। ग्रामीणों का आरोप है कि अवैध अतिक्रमणकारियों पर कोई कार्यवाही न होने से दबंग तालाब की पुराई करने में लगे हुये हैं व खलिहान में भी अवैध रूप से आवास बनवाने मेंजुट गये हैं। जनहित में ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से गांव के सार्वजनिक तालाब व खलिहान से अवैध अतिक्रमण हटाने की मांग की थी लेकिन अधिकारियों ने डीएम के आदेश के बाद भी न तो ऐसे अवैध अतिक्रमणों को हटाया गया और न ही किसी जिम्मेदार अधिकारी ने गांवमें अवैध अतिक्रमण रोकने का कोई प्रयास किया जाएगा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s