​फाईलेरिया दिवस कार्यक्रम की तरह ही लघु कक्षीय रही विश्व मलेरिया दिवस कार्यशाला 

उरई (जालौन) : जनपद में फाईलेरिया दिवस कार्यक्रम की तरह ही लघु कक्षीय रही विश्व मलेरिया दिवस कार्यशाला। यह कार्यशाला आज मंगलवार को घेषित रूप से अचल प्रशिक्षण केन्द्र में आयोजित की गई थी। इसके लिए सीएमओ स्तर से बाकायदा एक परिपत्र जारी किया गया । इसमें विभिन्न अधिकारियो तथा स्वयंसेेवी संगठन प्रमुख सहित 16 लोगों को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया। इन आमंत्रितो मेें से नाथूराम गौड़ पहूज विकास मंच रविन्द्र कुमार अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद उरई डा0 सुग्रीव बाबू जिला क्षय रोग अधिकारी जिला सूचना अधिकारी सहित  ढेर सारे प्रभारी चिकित्साधिकारी प्रा0 स्वा0 केन्द्र अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र प्रभागीय वनाधिकारी जालौन स्थान उरई अधिाशासी अभियन्ता जलनिगम जलसंस्थान सिचाई विभाग विधुत विभाग आदि नहीें आये। कार्यशाला अचल प्रशिक्षक केन्द्र के स्थान पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी के छोटे से कक्ष में एक बैठक के रूप में  हंसी-ठट्ठों के बीच सम्पन्न की गयी। इसे रसमय बनाने के लिए हल्का स्वल्पाहार उपस्थितों को करा दिया गया। जिस पर व्यय धनराशि का किसी को पता नहीं। बहुत सम्भव है कि यह कुछ सौ रूपयों से कुछ हजार रू0 भी हो सकती है। इसके समतुल्य फायलेरिया दिवस कार्यक्रम जो मुख्य रूप से त्रिदिवसीय था और छूटे लोगो को दवा खिलाने के लिए भी आगे टीमो को तीन दिन और कार्य किया किन्तु यह सब भी औपचारिक व कागजी कार्यवाही के साथ लगभग कक्षीय ही रहा। हां इस का लाखों रू0 का वजट जरूर पूरी तरह से खर्च कर लिया गया। ज्ञात हो कि विगत वर्ष जनपद जालौन मे मच्छरजनित रोग मलेरिया डेंगू और चिकिनगुनिया के रोगी बड़ी संख्या में सामने आये और एक हंगामा-सा इन रोगो को लेकर रहा। कथित रूप से वड़ी संख्या मे रोगियो की मौतें भी हुई थी। तत्कालीन सीएमओ डा0 अशोककुमार उसमंे निशाने पर रहे। साथ ही जिला मलेरिया अधिकारी ज्ञानस्वरूप स्वर्णकार अपने  पास कर्मचारी तथा चार पहिया वाहन न होने का रोना रोते रहे और मच्छरजनित रोगों से लोगो को बचाने की कोई योजना ही जिले मे नही है ऐसा साफ-साफ नजर आया।
विश्व मलेरिया दिवस की आज की तथाकथित कार्यशाला भी वर्तमान में साफ-साफ खुलासा कर रही है कि मच्छरजनित रोगों   पर नियंत्रण के लिए भले ही एसीएमओ डा0 सत्यप्रकाश को नोडल अधिकारी बना दिया गया हो पर नोडल अधिकारी ने उक्त कथित कार्यशाला में नाश्ता पानी कराने के साथ कोई कार्ययोजना पेश नही की। जिला मलेरिया अधिकारी अभी तक अपनी दुपहिया गाड़ी पर है। उनके यहां पदस्थ चालक अन्यत्र सम्बद्ध है और उन्हे क्षेत्र में घूमने के लिये कोई चार पहिया गाड़ी भी नहीं  है। यह स्थिति दरशा रही है कि हालात विगत वर्ष से भी खतरनाक हैं और सीएमओ को चमचागीरी के अंधेरे में रखा जा रहा है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s