शिक्षा का मन्दिर बना अखाड़े का मैदान

◆ जालौन के कोंच तहसील के ग्राम लौना का मामला ..
◆ प्राथमिक विद्यालय में तैनात प्रधानाचार्य  माया देवी की माया के सामने शिक्षा बिभाग के आलाधिकारी दिख रहे है नतमस्तक
◆ जिले के उच्चधिकारी भी कार्यवाही से कतराते नजर आ रहे है

कोंच (जालौन) : जहाँ एक और प्रदेश सरकार शिक्षा के लिए लाखो रुपये पानी की तरह बहा रही हो लेकिन इसका उल्टा नजारा जालौन के कोंच तहसील के ग्राम लौना के प्राथमिक विद्यालय का है जहा पर तैनात माया देवी ने शिक्षा के मंदिर को अखाड़े के मैदान जैसा रूप दे दिया गया मालूम की प्राथमिक विद्यालय में माया की जाल में गांव के कुछ लोग भी कहने लगे है की अगर शिकायत की तो उलटी कार्यवाही के लिए तैयार रहे इससे तंग आकर अव गाँव वाले भी शिकायत करने में कतराते नजर आ रहे है गौरतलव की बात ये है की जव ग्राम प्रधान की बात को भी नहीं मानती तो आम आदमी की बात क्या मनेगी 

*ताजा मामला*
मालूम को कि गाँव के ही आकाश आहिबार की कक्षा 5 व 8 की मारसीट व टीसी में 3 माह उम्र कम थी जिससे प्राथमिक विद्यालय की प्राधानाचार्य माया देवी ने आकाश की उम्र को 18 बर्ष कर दिया था जिससे पूर्ब माघ्यमिक विद्यालय के इंचार्ज प्राधानाचार्य सुधीर निरंजन व माया देवी के वीच में छीना झपटी हो गई थी जिससे सुधीर निरंजन के टीसी रजिस्टर, उपस्थिति रजिस्टर के कुछ पेज फट गए जिससे सुधीर निरंजन ने कोंच कोतवाली में तहरीर दी थी जिस पर मंडी चौकी इंचार्ज अरविंद द्विवेदी मौके पर पहुचे तो नजारा कुछ इस तरह था की माया देवी अकेली ही दम पर रसोरिया, आगनवाड़ी की कार्यकत्री,व गाँव बालो के आगे अपनी बात के आलावा किसी की बात मानने को तैयार नहीं थी जब जब गाँव बालो ने प्राथमिक विद्यालय की शिकायत अधिकारियो से किया तो माया देवी एक महिला हो का फायदा उठाने में सफल रहती है।

कब कब कौन कौन रहा अखाड़े के मैदान में ;
जव से माया देवी ने विद्यालय का चार्ज संभालाते ही ग्राम लौना को किसकी नजर लग गई थी

*पहले मामला* माया देवी व उन्ही की सहायक अध्यपिका नीतू पांचाल के वीच शुरू हो गया था और मामले में माया देवी ने एक महिला होने के नाते नीतू पांचाल के पति पर फर्जी तरीके से 156/3 के तहत छेड़खानी का मामला दर्ज कराया था।

*दूसरा मामला* गाँव के ही लोगों ने विद्यालय में एम डी एम नहीं वन वाने के आलावा विद्यालय समय से नहीं खुलने हेतु उपजिलाधिकारी कोंच को एक लिखित ज्ञापन दिया था लेकिन इस बार फिर भी महिला होने का फायदा उठाने हेतु कोंच कोतवाली में गाँव के कई सभ्रांत लोगो के खिलाफ तहरीर दे दी थी लेकिन महिला इस मामले में भी नाकाम नजर आई।

*तीसरा मामला* माया देवी के अपने ही विद्यालय में तैनात रसोइयो से भी अखड़े में ताल थोक दी जिससे रसोइया माया देवी भी प्राधानाचार्य माया देवी की माया जाल से बहार नहीं निकल सकी लेकिन रसोइया माया देवी ने की शिकायत पत्र देने के बाद भी कुछ भी हासिल नहीं हुआ 

*चौथा मामला* जव इस मामले को मिडिया कर्मी को मालूम हुआ तो विद्यालय पहुचे तो माया देवी की इतनी दवांगाई की मीडिया कर्मियो के ऊपर भी महिला होने का फायदे में भी नाकाम रही 

शिकायत करने पर बोलती है प्रधानाचार्य माया देवी ;

माया देवी की इतनी दबंगाई की कहती है की हम तो अधिकरियों को पैसा देते है जिससे हमको यहाँ से कोई भी नहीं हटा सकता है

कई बार चेतावनी दे चुके है खंड शिक्षधिकारी कोंच अजीत कुमार यादव के आदेशो को ठेंगा दिखने का काम किया जा रहा है 

क्या बोले वेसिक शिक्षाधिकारी ;

जव इस मामले में बेसिक शिक्षाधिकारी कमलेश कुमार ओझा से बात हुई तो उन्होने के कहा कि ऐसी प्राधनाधिपिक पर कार्यवाही की जाये गई जो शासन की मंसा को ठेंगा दिखने का कार्य किया जा रहा हो लेकिन आपको बताते चले की अभी एक सप्ताह भी नहीं हुआ की खुद वेसिक शिक्षधिकारी कमलेश कुमार ओझा ने प्राथमिक विद्यालय में जा कर हकीकत से रुबरु  हुए थे

क्या  शिक्षा विभाग के उच्चधिकारी इस बार कार्यवाही करेगे अव तो देखने बाली बात है ?

(रिपोर्ट @ आर.के.द्विवेदी)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s