​कोतवाली पुलिस से लेकर उच्च अधिकारियों तक शिकायत करने के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई …

★ पीडित महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराने को ली न्यायालय की शरण

★ पूर्व सांसद बोले, राजनीतिक षडयंत्र के तहत लगाए जा रहे आरोप
मनोज शर्मा / हेमन्त चौरसिया
उरई/जालौन। सत्ता में रहते हुए विवादों से चोली-दामन का साथ रखने वाले जालौन-गरौठा-भोगनीपुर संसदीय क्षेत्र के पूर्व सांसद व जनपद में समाजवादी पार्टी के नेता माने जाने वाले घनश्याम अनुरागी की मुश्किलें अभी भी कम होती नजर नहीं आ रही हैं। उरई निवासी एक महिला ने उन पर दुराचार के प्रयास का आरोप लगाया है। पूर्व सांसद पर कार्रवाई के लिए महिला ने पहले कोतवाली पुलिस की शरण ली और उच्च अधिकारियों तक को शिकायती पत्र भेजा। इसके बाद भी कोई कार्रवाई न होने के बाद अब पीडित महिला ने न्यायालय की शरण ली है। महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए सीजेएम कोर्ट में आवेदन प्रस्तुत किया है। इससे पूर्व सांसद की मुश्किलें बढती हुई नजर आने लगी हैं। वहीं इस बारे में पूर्व सांसद का कहना है कि राजनीतिक षडयंत्र के तहत उन पर आरोप लगवाए जा रहे हैं।
जानकारी के अनुसार उरई कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पटेल नगर डिग्गी ताल के पास रहने वाली एक महिला ने सीजेएम कोर्ट उरई में प्रस्तुत किए आवेदन में बताया कि वह मूल रूप से हमीरपुर जनपद के थाना जरिया अंतर्गत ग्राम दादों की रहने वाली है और इन दिनों वह पटेल नगर में अपने पति के साथ रहती है। पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी से उसकी जान-पहचान थी और एक-दूसरे के घर पर आना जाना भी था। महिला ने बताया कि वर्ष 2009 में जब घनश्याम अनुरागी सांसद निर्वाचित हुए तो उन्होंने उसके पति को रोजगार दिलाने का आश्वासन दिया। इसके बाद उसका और सांसद का एक-दूसरे के घर आना-जाना तेज हो गया। पर आश्वासन के बाद भी उसके पति की कोई मदद नहीं की गई। महिला ने आरोप लगाया कि इसी सिलसिले में बीती छह अप्रैल 2017 को शाम तकरीबन चार बजे वह पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी के आवास पर पहुंची। महिला का आरोप है कि जब वह उनसे मिलने के लिए कमरे में गई तो पूर्व सांसद ने उसे दबोच लिया और उसके साथ छेडखानी करते हुए दुराचार का प्रयास किया। काफी चीखने और चिल्लाने के बाद खुद की जान बचाकर मौके से भाग निकली और इस बारे में अपने पति को अवगत कराया। इसके बाद उसने कोतवाली पुलिस से शिकायत की ओर मुख्यमंत्री, डीजीपी, आइ्रजी जोन समेत कई उच्च अधिकारियों को शिकायती पत्र भी भेजा। पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब महिला ने उरई सीजेएम कोर्ट में आवेदन प्रस्तुत करते हुए पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने की मांग की है। वहीं इस बारे में पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी का कहना है कि वह महिला को नही जानते हैं। राजनीतिक षडयंत्र के तहत मेरी छवि खराब करने के लिए यह आरोप लगवाए जा रहे हैं।

30 मई को होगी मामले की सुनवाई

उरई। महिला द्वारा पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी पर दुराचार के प्रयास का आरोप लगाते हुए सीजेएम कोर्ट में प्रस्तुत किए गए आवेदन पर 30 मई को सुनवाई की तारीख मुकर्रर की गई है। इससे पहले 16 मई को सुनवाई होनी थी, पर सीजेएम के छुट्टी पर होने के कारण अगली तारीख 30 मई कर दी गई। इस दिन बहस होने के साथ ही स्पष्ट हो जाएगा कि पूर्व सांसद के खिलाफ आगे कोई कार्रवाई होगी या नहीं?

पहले भी लग चुके आरोप

उरई। पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी के खिलाफ इस तरह का आरोप पहले भी लग चुका है। उनके ही परिवार की एक सदस्य ने उन पर इस तरह का आरोप लगाया था और इसकी शिकायत महिला आयोग समेत कई जगहों पर की थी। पर उस वक्त वह सत्ता पक्ष के सांसद थे। जिसके चलते इस मामले ने तूल तो पकडा पर कुछ ही दिनों में यह ठंडे बस्ते में चला गया। अब एक बाहरी महिला द्वारा इस तरह का आरोप लगने के बाद पूर्व सांसद की मुश्किलें बढती हुई नजर आने लगी हैं। अगर न्यायालय ने सुनवाई के बाद पूर्व सांसद के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश जारी किया तो मामला और भी तूल पकडेगा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s