​यूपी में नहीं होगी शिक्षकों की भर्ती, बंद होंगे स्कूल …

【कुलदीप मिश्रा @ खबर आपकी】

लखनऊ : प्राइमरी शिक्षक बनने का सपना देख रहे युवाओं के लिए चौंकाने वाली खबर है। कम बच्चों वाले स्कूल बंद होने वाले हैं तो वहीं नई भर्तियां भी फिलहाल नहीं होंगी। दरसअल योगी सरकार शहरी क्षेत्रों के उन प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों को बंद करने पर विचार कर रही है जहां छात्रों की संख्या काफी कम है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग के सचिव अनिल स्वरूप एवं भारत सरकार के अन्य अधिकारियों के साथ रोडमैप फार ट्रांसफार्मिंग स्कूल एजुकेशन, स्टेट आफ उत्तर प्रदेश पर विचार विमर्श के दौरान कहा, नगरीय क्षेत्र में कई ऐसे प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं जहां छात्रों की संख्या काफी कम है।

सूत्रों के मुताबिक योगी ने कहा, ऐसे विद्यालयों को बंद करके वहां के छात्रों को नजदीकी विद्यालयों में समायोजन करने पर विचार किया जाए। इस व्यवस्था के फलस्वरूप उपलब्ध अतिरिक्त शिक्षकों को जरूरतमंद विद्यालयों में समायोजित किया जाए।उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न प्रदेशों द्वारा अपनायी जा रही अच्छी एवं पारदर्शी कार्य पद्धतियों को उत्तर प्रदेश में भी लागू किया जाएगा। तकनीक के माध्यम से शिक्षा व्यवस्था में भ्रष्टाचार को समाप्त करने पर बल दिया जाए।

अभ्यर्थियों की बढ़ी टेंशन :

प्राइमरी शिक्षक बनने का सपना देख रहे युवाओं के अरमानों को झटका लगने वाला है। वहीं बीएड व बीटीसी कर रहे छात्र भी परेशान हैं। बीएड अभ्यर्थी अनुराग कुमार के मुताबिक योगी सरकार आने पर रोजगार की उम्मीद बढ़ी थी। हम उम्मीद कर रहे थे सरकार प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती करेगी लेकिन योगी जी का बयान चौंकाने वाला है। नए शिक्षक नहीं भर्ती किए जाएंगे तो हमें कैसे रोजगार मिलेगा।

कम नहीं है शिक्षक,सरप्लस हैं : अनुपमा जायसवाल

बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल का भी कहना है कि शिक्षकों की पूरे प्रदेश में शिक्षकों की कोई कमी नहीं है। कई स्कूलों में सरप्लस शिक्षक हैं। उन्हें वहां से ट्रांसफर कर उन स्कूलों में भेजे जाने पर सरकार विचार कर रही है जहां शिक्षक कम हैं। लगभग 65 हजार शिक्षक सरप्लस हैं। उनके मुताबिक टीचर्स को केवल खानापूर्ति नहीं बल्कि पूरी शिद्दत से पढ़ाना होगा तभी शिक्षा का स्तर सुधरेगा।

नहीं लगेगी शिक्षकों की ड्यूटी :

बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा है कि प्रदेश सरकार कोशिश कर रही है कि शिक्षकों की ड्यूटी अब चुनाव में न लगे। उनके मुताबिक इस कारण छात्रों की पढ़ाई में डिस्टर्बेंस हो जाता है। कई बार सिलेबस भी पूरा नहीं हो पाता। इससे पहले दिल्ली सरकार भी अपने शिक्षकों को लेकर यह फैसला कर चुकी है।

बायोमेट्रिक पर राहत :
अनुपमा जायसवाल के मुताबिक बायोमेट्रिक सिस्टम इस सत्र से लागू नहीं हो पाएगा। उनका कहना है कि राज्य में हजारों स्कूल हैं ऐसे में जुलाई तक बायोमेट्रिक लगाना इतना आसान नहीं। शिक्षकों के लिए यह राहत की बात है। पिछले दिनों कई शिक्षकों ने बेसिक शिक्षा मंत्री से अपील की थी कि अभी बायोमेट्रिक सिस्टम न शुरू किया जाए। कई स्कूल शहर से दूर हैं, कई बार सीधा ट्रांसपोर्ट भी नहीं मिलता ऐसे में बायोमेट्रिक के कारण उनकी लेट लग जाएगी।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s