​श्रीमद भागवत कथा ! नन्द के आनन्द भयो जय कन्हैया लाल की : पं. श्री रामकरण शास्त्री जी


(सन्दीप गुप्ता @ खबर आपकी)

कबरई(महोबा) : कस्बा कबरई मे श्री भागवत ज्ञान यज्ञ कथा की बह रही रसधारा तथा भक्त अपनी विशाल संख्या मे उपस्थिति दे यह बात साबित कर दी की अभी भी लोगो मे ईश्वर के प्रति कायम है आस्था।

कबरई के बघवा भगत सिंह नगर निवासी केशव प्रसाद तिवारी पुष्षन महाराज के द्वारा श्री भागवत ज्ज्ञान यज्ञ कथा का दिनांक 10/06/2017 शुभारम्भ किया गया है जिसका आज चौथा दिन है जिसके उपरान्त आज भगवान श्री कृष्ण का जन्म कथा को आज पंडित श्री रामकरण शास्त्री जी के मुखारबिंद से भक्तो तक पहुंचाया गया जिसमें उन्होनें बखान किया की भगवान श्री कृष्ण का शुभ संदेश देते हुऐ ज्ञान  को गौण एंव प्रेम के संदेश को गोपीयो और ब्रजवासियो के माध्यम से संसार के प्रति व्यक्ति गत आदर सम्मान एंव धर्म और सत्य का आश्रय लेते हुऐ विविध कामनाओ को भोगते हुऐ एक दूसरे के साथ धर्म को महत्व प्रदान करे व जाति को महत्व न देते हुऐ कर्म और धर्म प्रधान को बताया। आज चतुर्थ दिवस की कथा मे भगवान श्री कृष्ण का जन्म कथा करते हुऐ भगवताचार्य जी ने की कहा जीव जब साधना करने बैठ जाता है तब संसार रुपी हथकड़ीयां और पैरो की बैडियां टूट जाती है। और ईश्वर के प्रेम के दरवाजे खुल जाते है कमैन्द्रीयां ज्ज्ञानेद्रियां मन बुद्धि चित्य और अहंकार नश्ट हो जाते है वासनाये शान्ति हो जाती है और यदि पुन: संसार एंव संसारिक चिंतन करने लगता है तो फिर से कामादि क्रोधादि मोहादि विकार उत्पन्न हो जाते है आज श्री कृष्ण जन्म बडे ही धूमधाम से हुआ है जिसके चलते भक्तो मे खुशी की लहर उठ पडी तथा भजन गायक श्री रविन्द्र शुक्ल द्वारा भगवान के जन्म के उपलक्ष्य मे मीठे रस भरे भजन गाऐ जिसे सुन सभी भक्त ने झूम झूम कर आनन्द उठाया। सभी उपस्थित भक्त सोमेश छत्रपाल सिंह गौरव सौरभ विभा अंकिता सोम्या यशी ज्योति आदि मौजूद रह कृष्ण जन्म की कथा का आनन्द उठाया।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s