एक बड़ा सवाल ! आखिर क्यों पुलिस की गिरफ्त में आया फर्जी अपर कमिश्नर व्यापार कर …

कोंच/जालौन। बीती रात कस्बे के मुख्य राजमार्ग पर अवस्थित एक कन्फैक्शनरी की दुकान की गोलक से बीस हजार तडऩे बाला फर्जी अपर कमिश्नर व्यापार कर लोगों की गिरफ्त में आने के बाद पुलिस तक भी पहुंचा लेकिन पुलिस ने उसे छोड़ दिया। पुलिस की इस कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं कि आखिर पुलिस ने उसे क्या फील गुड करके जाने दिया?

मिली जानकारी के मुताबिक यहां कस्बे में मुख्य राजमार्ग पर अवधेश चतुर्वेदी पुत्र रामशंकर निवासी गांधीनगर की कन्फैक्शनरी की दुकान एसआरपी स्कूल गेट से थोड़ा हट कर है। बीती रात एक अपरिचित व्यक्ति उस वक्त उनकी दुकान में घुस कर मालिक की गद्दी पर बैठ गया जब दुकान मालिक अवधेश दुकान के बाहर कुर्सी पर बैठा था। उक्त अपरिचित व्यक्ति ने दुकान के गल्ले में हाथ डाला और उसमें पड़े बीस हजार के नोट तड़ दिये। अवधेश ने किसी अपरिचित व्यक्ति को उसकी गद्दी पर बैठे देखा तो वह दुकान में गया और उससे पूछा कि वह किस हैसियत से गद्दी पर बैठ गया है। उसने जबाब दिया कि वह अपर कमिश्नर व्यापार कर झांसी मंडल है और जीएसटी के तहत रात आठ बजे के बाद दुकान खोलना गैरकानूनी है, जो बीस हजार उसने लिये हैं वह जुर्माने के तौर पर लिये गये हैं। बहरहाल, उक्त तथाकथित अपर कमिश्नर वहां से उठ कर चल दिया। इसी बीच अवधेश ने यूपी 100 को फोन कर दिया तो गाड़ी मौके पर पहुंच गई और उक्त तथाकथित अपर कमिश्नर की जब तलाशी ली तो उसमें अवधेश के यहां से उठाई गई रकम के अलावा उसके भी दस हजार तीन सौ रुपये जेब में निकले। बहरहाल, उसको हिरासत में लेकर पुलिस कोतवाली की ओर चली गई। इसके बाद उक्त फर्जी अधिकारी का क्या हुआ, इसका पता किसी को नहीें है। क्या पुलिस ने फील गुड करके उसे जाने दिया, यह बड़ा सवाल लोगों के जेहन में जरूर कुलबुला रहा है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s