​एट के वन विभाग रेन्जर में पौधा रोपड़ के नाम पर है जीरो …

★ वन विभाग के वनाधिकारी को वन रेन्जर 90 प्रतिशत पौधा है जीवित की देते हैं प्रगति

★ रेन्जर अपनी काली करतूतों को छिपाने के लिए स्पोट पर न जाने पर 50 हजार का आफर देकरके करता रहा मना 

ऐट/जालौन : मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट में एक ही दिन मे पांच करोड़ पौधारोपड़ कराने पर गिनीज बुक पर अपनी पहचान बनाने के लिये अधिकारियों के भरोसे पर किया गया था वादा जो नहीं हुआ पौधारोपड़ कराने का विकास वल्कि कागजों पर शत् प्रतिशत पौधों को सुरक्छित बताया जा रहा है जो जिलाधिकारी व शासन को गलत रिपोर्ट भेजी जाती है 

सूत्र के हवाले मिली खबर पर जब एट के पचोखरा में स्थिति वन नर्सरी में जा करके शासन द्वारा लगवाये गये पौधों की कितने जीवित रहने के लिये मौके पर देखने जा रहे थे तब रेन्जर रहमान खान से मौके पर जाने को कहा गया तो रेन्जर ने जीवित पौधों को देखने के लिए मना किया और कहने लगा कि आप लोग जीपीएस के माध्यम से यहीं पर देख ले आप लोग और आप नहीं यदि नही जाते हैं तो आप लोगों को मैनेज किया जायेगा पत्रकार मैनेज होने से मना कर लिया तो रेन्जर सपा सरकार की दबंग आदत में बोला कि आप लोग मैनेज नही होगें तो डीएम एवं शासन में बैठे मन्त्रियों से भी हमारा तुम क्या कर लोगो सभी तो भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा हुये है और वही पर नर्सरी में चारा साफ सफाई के कार्य में लगी महिलाओं को काम में लगाया गया है जिनकी मजदूरी रेन्जर द्वारा रू0 150 दिये जाते है यह सब आप बीती काम पर तैनात महिलाओं ने बताया गया है अब देखना यह है कि परत दर परत हुये भ्रष्टाचार करने वाले रेन्जर पर क्या कार्यवाही  होती है जंगल में पौधारोपड़ न के बराबर हुआ है और कमठा के साइड एक पर 15हेक्टेयर पर 13500पौधे लगाने का दावा कर रहे वनाधिकारी आर0बी0 अहिरवार तो शासन को 90प्रतिशत जीवित पौधों का दावा कर रहे है लेकिन मौके पर देखा जा करके 13500पौधों में महज 100से भी पौधे कम निकला जिनमें पत्तियाँ तो नही सूखे डन्ढल ही मिले और पौधारोपड़ एक मात्र धोखा ही ही तो है 

क्रासर —

वन रेन्जर रहमान खान से हमारे वायस अॉफ लखनऊ के सम्वाददाता ने पचोखरा नर्सरी में काम करने महिलाओं को मजदूरी क्या दी जाती है तो रेन्जर ने बताया कि मै तो सहकारी रेट₹174 दिये जाते है लेकिन रेन्जर दबंगी से कह रहा मेरा कोई कुछ नही कर पायेगा मेरी बहुत ही ऊंचे  लोगो से है महिलाओं को महज ₹150 ही दिये जाते अब देखना यह है कि प्रश्न चिन्ह बन करके रह जायेगा या भ्रष्ट रेन्जर पर क्या कार्यवाही होती हैं